हिंदी समाचार पढ़े
Expand
O.P. Jindal Global University
 
Home / Hindi News / एरिक्सन इंडिया की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा

एरिक्सन इंडिया की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रखा

उच्चतम न्यायालय ने रिलायंस कम्युनिकेशंस लि के चेयरमैन अनिल अंबानी और दो अन्य के खिलाफ 550 करोड़ रूपए की बकाया राशि का भुगतान नहीं करने के कारण उनके खिलाफ अवमानना कार्यवाही के लिये एरिक्सन इंडिया की याचिका पर बुधवार को सुनवाई पूरी कर ली। न्यायालय इस पर बाद में फैसला सुनायेगा।

Anil Ambani
Anil Ambani

न्यायमूर्ति आर एफ नरिमन और न्यायमूर्ति विनीत शरण की पीठ ने संबंधित पक्षों को सुनने के बाद कहा कि इस पर फैसला बाद में सुनाया जायेगा।

इस मामले की सुनवाई के दौरान एरिक्सन इंडिया की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने कहा कि शीर्ष अदालत के आदेश की जानबूझ कर अवज्ञा की गयी है और इसके लिेये उनके खिलाफ अवमानना कार्रवाई शुरू की जानी चाहिए।

आरकाम की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि इसमें अवमानना कार्रवाई का कोई मामला नहीं बनता क्योंकि शीर्ष अदालत के किसी आदेश का उल्लंघन नहीं किया गया है।

अनिल अंबानी, रिलायंस टेलीकाम लि के चेयरमैन सतीश सेठ और रिलायंस इंफ्राटेल लि की चेयरपर्सन छाया विरानी इस मामले की सुनवाई के दौरान न्यायालय में मौजूद थे।

न्यायालय ने पिछले साल 23 अक्टूबर को आरकाम से कहा था कि वह 15 दिसंबर, 2018 तक बकाया राशि का भुगतान करे और ऐसा नहीं करने पर उसे 12 फीसदी सालाना की दर से ब्याज भी देना होगा।

एरिक्सन ने अनिल अंबानी और दो अन्य के खिलाफ अवमानना कार्रवाई करने का अनुरोध करते हुये याचिका में दावा किया कि उन्होंने 15 दिसंबर, 2018 तक बकाया राशि का भुगतान नहीं किया है।

 

Source

Facebook Comments

 
 
Tax Reforms    by Hindu Tax Reforms by Hindu Pakistan Democracy Pakistan Democracy Lawyers Bearing the Burden Literally Lawyers Bearing the Burden Literally pic by OMG State of Two Nations State of Two Nations               pic by sandeep Job Hazards State of JudiciaryState of Judiciary by Sandeep Adhwaryu of TOI Missing the Point Missing the Point pic by english blog

TOI

State of Affairs Women Safety: State of Affairs             pic by mangal Auto Driver thrashed for no fault Auto Driver thrashed for no fault,                  source oneindia

...as an eminent lawyer you ought to know that your action tantamount to, under Section B, sub-section G.VIX, read along with I.P.C. (A) XI (B), notwithstanding...                                        TOI

TOI [caption id="attachment_97467" align="alignleft" width="621"]Humour with Latest Laws Humour with Latest Laws[/caption] Demonitisation Diaries 2 Demonitisation Diaries 2  pic by sify America First Walk Your own Talk Alligator vs Litigator Alligator vs Litigator Demonitisation Diaries Demonitisation Diaries                                                       by sify If India takes One Step, we will take Two by Satish If India takes One Step, we will take Two ...................by Satish Hindu

Hindu

TOI

Hindu

TOI

Cartoon Hindu

Hindu Hindu

TOI Four Pillars of Democracy Four Pillars of Democracy             by Satish Time to straighten up Time to straighten up                pic by TOI

Hindu

Belts are for Dogs Belts are for Dogs Painting India Saffron Painting India Saffron Hindu

TOI

Hindu Hindu

Acheche DIn Acheche Din     pic by sify

IBN IBN

Hindu

TOI

TOI

Hindu

150425_-_farmers_a_2384764f

Hindu

Let Justice Be Let Justice Be

Hindu

TOI

TOI

Hindu Hindu Hindu Pic by Hindu Women Empowerment and Sports Women Empowerment and Sports

Hindu

Demonitisation Diaries 1 Demonitisation Diaries 1                                  pic by sify  

TOI

TOI

ALL_1_Theme_01A_24_2383617g

Hindu

Hindu

pinterest

Hindu

Donald Trump’s immigration ban Donald Trump’s immigration ban Delivery Boy Delivery Boy                    by Satish UIDAI Leaks UIDAI Leaks Humour @ Latest Laws Achhey Din Humour @ Latest Laws: Achhey Din Hindu Hindu Netas in Election mode Netas in Election mode Soaring of Oil Prices pic by indiaone TOI

TOI

Hindu NPA Hurts Public Sector Banks NPA Hurts Public Sector Banks TOI
Download our App
ios icon
android icon
 
 
 

Check Also

Supreme Court of India

तेजाब हमला निर्मम अपराध, किसी भी तरह क्षमा योग्य नहीं : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने तेजाब हमले को ‘असभ्य व निर्मम’ करार देते हुए कहा कि यह अपराध क्षमा करने योग्य नहीं है। शीर्ष अदालत ने दो दोषियों को पीड़ित लड़की को डेढ़-डेढ़ लाख रुपये अतिरिक्त मुआवजा देने का आदेश देते हुए ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *